ZINDAGI…

Zindagi bas ek hava ka jhoka hai
Kab aata hai… kab jaata hai
Pata bhi nahi chalta
Bas yuhi guzar jaata hai
Ek halka sa ehsaas chod jaata hai…

Zindagi ke har mod par
Koi milta hai koi bichadta hai
Milne me aur bichadne me
Zindagi guzar jaati hai
Milna aur bichadna shareer ka hai
Kyonki dil to aksar jud jaate hai
Aur ek ehsaas chod jaate hain…

Zindagi ek kora kagaz hai
Usme mann chahe rang bhar lo
Kuch rang mita do… mitt jaate hai
Par kuch rang gehre utar jaate hai
Aur ek ehsaas chod jaate hai…

Zindagi jaise khali panna ho
Shahi se ek kahani likh dalo
Us kahani ke paatr bankar jiyo
Kahani akhir khatam ho jaati hai
Par koi kirdar khoob nibhaata hai
Aur ek ehsaas chod jaata hai…

Zindagi behti nadee ka pani hai
Usme dubki lagakar dekho
Wahi pani fir se choona nahi hota
Behti rehti dhara aisi… ki pani nahi tehertha
Teherna to humko hai
Iska ehsaas chod jaati hai…

Zindagi ke anginat pal mei
Kuch meethe kuch kadve pal aate hai
Har pal guzar jaata hai
Khush rehna ya dukhi
Ye humpar nirbhar rehta hai
Lekin pal pal ki is dhadkan bhi
Ek ehsaas chod jaati hai…

Zindagi jo bhi hai… jaisi bhi hai
Ise samajhna bahut mushkil hai
Na jaan sakte hai hum
Na suljha sakte hai hum
Aisi uljhi ek sundar si paheli hai
Lekin zindagi ke is rangeen uljhan me
Koi aakar, kuch karkar, dil chookar
Ek ehsaas chod jaata hai…❤

WRITTEN
By: Naina Nair

 

 

ज़िन्दगी

जिंदगी बस ऐक हवा का झोका है

कब आता है…कब जाता है

पता भी नहीं चलता

बस युही गुज़र जाता है

एक हल्का सा अहसास छोड़ जाता है…

 

जिंदगी के हर मोड़ पर

कोई मिलता है कोई बिछडता है

मिलने में और बिछड़ने में

जिंदगी गुज़र जाती है

मिलना और बिछड़ना शरीर का है

क्योंकि दिल तो अक्सर जुड़ जाते है

और ऐक अहसास छोड़ जाते हैं…

 

जिंदगी कोरा कागज़ है

उसमे मन चाहे रंग भर लो

कुछ रंग मिटा दो… मिट जाते है

पर कुछ रंग गहरे उतर जाते है

और एक अहसास छोड़ जाते है

 

ज़िन्दगी जैसे खाली पन्ना हो

श्याही से एक कहानी लिख डालो

उस कहानी के पात्र बनकर जीयो

कहानी आखिर ख़तम होजाती है

पर कोई किरदार खूब निभाता है

और एक अहसास छोड़ जाता है

 

ज़िन्दगी बहती नदी का पानी है

उसमे डुबकी लगाकर देखो

वही पानी फिरसे छूना नहीं होता

बहती रहती धारा ऐसी…कि पानी नहीं ठहरता

ठहरना तो हमको है

इसका अहसास छोड़ जाती है…

 

ज़िन्दगी के अनगिनत पल में

कुछ मीठे कुछ कडवे पल आते है

हर पल गुज़र जाता है

खुश रहना या दुखी

यह हमपर निर्भर रहता है

लेकिन पल पल की इस धड़कन भी

एक अहसास छोड़ जाती है…

 

ज़िन्दगी जो भी है…जैसी भी है…

इसे समझना बहुत मुश्किल है

न जान सकते हैं हम

न सुलझा सकते है हम

ऐसी उलझी एक सुन्दर सी पहेली है

लेकिन ज़िन्दगी के इस रंगीन उलझन मे

कोई आकर…कुछ करकर…दिल छूकर…

एक अहसास छोड़ जाता है…❤

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s